मोदी कल देश के सबसे लंबे रेल-रोड पुल का उद्घाटन करेंगे, 10 घंटे कम होगी असम-अरुणाचल के बीच दूरी

Amazon offers : Electronics

  • 4.94 किमी पुल की लंबाई, 5920 करोड़ रु. आई लागत
  • 1997 में एचडी देवेगौड़ा ने पुल का शिलान्यास किया था, 16 साल पहले वाजपेयी सरकार में शुरू हुआ था काम

Dainik Bhaskar

Dec 24, 2018, 07:20 AM IST

नई दिल्ली. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 25 दिसंबर को असम के डिब्रगढ़ में देश के सबसे लंबे रेल-रोड पुल बोगीबील का उद्घाटन करेंगे। यह ब्रह्मपुत्र नदी के उत्तर और दक्षिण तट को जोड़ेगा। पुल की लंबाई 4.94 किमी है। एक अफसर के मुताबिक- 25 दिसंबर को सरकार गुड गवर्नेंस दिवस मना रही है। इसी मौके पर प्रधानमंत्री देश की जनता को पुल की सौगात देंगे।

देवेगौड़ा ने रखी थी नींव

  1. 1997 में संयुक्त मोर्चा सरकार के प्रधानमंत्री एचडी देवेगौड़ा ने पुल का शिलान्यास किया था, वहीं 2002 में अटल बिहारी वाजपेयी सरकार ने इसका निर्माण शुरू किया था। पुल के पूरा होने में 5920 करोड़ रुपए की लागत आई।
  2. बीते 16 साल में पुल के पूरा होने की कई डेडलाइन चूकीं। इस पुल से पहली मालगाड़ी 3 दिसंबर को गुजरी। बोगीबील पुल को अरुणाचल से सटी चीन सीमा तक विकास परियोजना के तहत बनाया गया है। भारत-चीन सीमा करीब चार हजार किमी लंबी है।
  3. डिब्रूगढ़ से धेमाजी को जोड़ेगा

    बोगीबील पुल इंजीनियरिंग का अद्भुत नमूना बताया जा रहा है। यह असम के डिब्रूगढ़ से अरुणाचल के धेमाजी जिले को जोड़ेगा। इससे असम से अरुणाचल प्रदेश जाने में लगने वाला वक्त 10 घंटे कम हो जाएगा। पुल के बनने से डिब्रूगढ़-धेमाजी के बीच की दूरी 500 किमी से घटकर 100 किमी रह जाएगी।

  4. नॉर्थईस्ट फ्रंटियर रेलवे के सीपीआरओ प्रणब ज्योति सरमा के मुताबिक- “ब्रह्मपुत्र नदी पर पुल बनाना चुनौतीपूर्ण था। इस इलाके में बारिश ज्यादा होती है। सीस्मिक जोन में होने के चलते यहां भूकंप का खतरा भी होता है। पुल कई लिहाज से खास है।”
  5. रेलवे ने बनाया डबल-डेकर पुल, टैंक भी निकल सकेंगे

    रेलवे द्वारा निर्मित इस डबल-डेकर पुल से ट्रेन और गाड़ियां दोनों गुजर सकेंगी। ऊपरी तल पर तीन लेन की सड़क बनाई गई है। नीचे वाले तल (लोअर डेक) पर दो ट्रैक बनाए गए हैं। पुल इतना मजबूत बनाया गया है कि इससे मिलिट्री के टैंक भी निकल सकेंगे।

Amazon offers : Jewelry

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*